Archives

Calendar

December 2022
M T W T F S S
 1234
567891011
12131415161718
19202122232425
262728293031  

Sharanagati

Collected words from talks of Swami Tirtha




(श्री भ.क. तीर्थ महाराज के व्याख्यान से उद्धृत , २६/११/2006, सोफिया )

कृष्ण की रुचि इसमें नहीं है कि आप उन्हें क्या देते हैं , क्योंकि व्यावहारिक रूप से सब कुछ उनका ही है | लेकिन आप स्वयं के लिए क्या संरक्षित करना चाहते हैं,इसमें उनकी रुचि है | यह कैसे होता है ? हमने
कहानी में कई बार चर्चा की है कि कृष्ण माखनचोर है, वे मक्खन चुराते हैं | वे माँ यशोदा के भंडार से मक्खन चोरी करते है | लेकिन वे उस से संतुष्ट नहीं है, वे पड़ोसियों के यहाँ जाते हैं |
. पड़ोसियों से भी वे उनका माखन का भंडार छीनते हैं |
हम कहानी को विस्तृत कर सकते हैं, लेकिन अभी हम सार पर ध्यान केंद्रित करते हैं| तब पडोसी महिलाऐं परेशान हो जाती हैं और माँ यशोदा से शिकायत करती हैं : “अरे! आपका बच्चा हमारे घरों में आता है और वह हमारा मक्खन चोरी करता है | “तब यशोदा कृष्ण को दंड देने की कोशिश करती हैं :
” तू पड़ोसियों के यहाँ क्यों जाते हो? हमारे यहाँ तेरे लिए पर्याप्त मक्खन है|
तुझे पता है कि मेरे घर में मक्खन तेरे लिए रखा है |”
कृष्ण, उस माखन से जो उनके लिए रखा गया है ,संतुष्ट नहीं हैं | वे ,वह मक्खन चाहते हैं जो उनसे छुपा हुआ है, जो गोपियों ने “स्वयं के लिए” बचा कर रखा है| हम इस पर सहमत हैं कि
मक्खन पशुओं के साम्राज्य का सार है. और पशु गोपालों के जीवन का सार हैं | अत: यह उनके जीवन का सार है ! वे इसे बनाए रखना चाहते हैं,छुपाना चाहते हैं,भंडार में रखना चाहते हैं |, यह छुपाने के लिए, यह स्टॉक में रखना चाहते हैं |लेकिन कृष्ण आयेंगे और इसे हड़प जायेंगे |
इसलिए सावधान रहना! कृष्ण एक माखनचोर हैं| अगर आप संरक्षित करना चाहते हैं,
आप अपने जीवन के सार छुपाना चाहते हैं, वह आ जाएगा और
इसे आप से छीन ले जायगा | बेहतर है हम ही उसे दें दे ! क्योंकि हम जो नहीं देगें ,वह
खो जाएगा| लेकिन यदि आप देते हैं, तो आप केवल अपने लगाव को खोते हैं |
एक माँ के लिए बच्चे में कृष्ण को देखने का सुझाव दिया गया है या अगर यह
बच्ची है, तो राधा | तो आप उसके माध्यम से कृष्ण से जुड़ जाएंगें | यह हमारा दृष्टिकोण होना चाहिए: भगवान इस मानव द्वारा मेरे पास आ गए हैं |ए. यह हमारा दृष्टिकोण होना चाहिए: भगवान में मेरे पास आ गया है
इस व्यक्ति को. इसलिए पति परिवार के देवता है. लेकिन
पत्नी परिवार की देवी है! कौन सशक्त है – देवता
या देवी? मैं अधिक विस्तार में नहीं जाऊंगा , आप अपने लिए स्वयं सोचें | यदि मन से हमारी यह मान्यता है कि मेरे लिए मेरे साथ वाला व्यक्ति भगवान के समान है — यह मानव संबंधों का एक अलग स्तर है | लेकिन तब आपको लगता है कि: “अरे, मेरा बच्चा
एक देवता की तरह. व्यवहार नहीं करता है | “या फिर आप समझ जायेंगे कि” हमारे
घर के भगवान , मेरे पति, ऐसे नहीं हैं ,वे इस स्तर पर नहीं हैं ! पर यह उनका काम है:आप का काम है ,इस विचार को बनाए रखना |
मानवीय आसक्ति को छोड़ देना –एक बहुत बड़ा काम है | . लेकिन यह भी बहुत अच्छा है, कि हम लगाव के पथ का अनुसरण कर रहे हैं | यदि हम
केवल परित्याग करते हैं तो भक्ति कड़वी हो जाएगी |लेकिन सब लोग
कहते हैं कि भक्ति प्यारी है और यह कैसे मीठी है? क्या है
इस मिठास का कारण है? लगाव है कारण | यह राग है,राग भक्ति, अनुराग भक्ति और अगर हम जुड़े हैं और कहीं ऊँचे स्तर पर ,
उच्चतर कुछ है, तो निम्न सम्बन्ध छोड़ देना बहुत ही आसान है| यदि आप मर्सिडीज में आ सकें तो
अपनी साइकिल को भूल जाते हैं | खैर, यह उदाहरण काफी सही नहीं है, क्योंकि अच्छा है कि हम मर्सिडीज से बाहर निकलें और साईकिल कि सवारी करें — यह नैतिक और पर्यावरण ,दोनों रूप से सही है – लेकिन मुझे लगता है कि आप समझ गए हैं कि मेरा क्या मतलब है| इसलिए यदि आप के पास एक बेहतर विकल्प होता है, यदि आप का स्तर ऊँचा है,तो निम्न स्वाद को छोड़ देना सरल है | “गीता “में कहा गया है
: “आप निम्न रस( स्वाद) को छोड़ सकते हैं , अगर तुम्हें एक झलक मिल जाए ,उच्च स्तरीय स्वाद के एक छोटे कण की अनुभूति हो जाए | ”
तो आसक्ति का त्याग मत करो , उसका बदलाव करो| एक नश्वर मानव से
उसे भगवान के लिए हस्तांतरित कर दो | किया जा रहा है. लेकिन इसकी कैसे देखभाल हो केसे हो कि वहां भी उपस्तिथि हो पर आसक्ति न हो ? गृहस्थ जीवन की यह कला है | किसी भी उम्मीद के बिना अपने कर्तव्य प्रदर्शन करना| यह है तो
मुश्किल है| लेकिन माताओं, आप को इसके बारे में पता है| हम इसे कर सकते हैं यदि हम उस स्थिति से,जिसमें हम हैं, थोडा दूर रहें |तो हम पूरी तरह से लगे हुए हैं और यदि खुद के बारे में भूल जाते हैं तो जाओ कर रही है, तो यह अधिक कठिन है | लेकिन यदि आप एक दूरी रखते हैं , तो आप चित्र को देख सकते हैं| तो आप तैयार हो सकती हैं कि अब मैं अपने बच्चे को बढ़ा कर रही हूँ ,उसके नितम्ब साफ करती हूँ और वह, बीस साल बाद कहेगा : “नहीं माँ,. मैं अपने रास्ते जा रहा हूँ | ” फिर भी, अब आप को क्या करना है?नितम्ब साफ करना है-कोई बात नहीं | हमारा आदर्श होना चाहिए , एक विनम्र सेवक| तो अगर जीवन मुझे एक विनम्र सेवक बनने का मौका देती है तो -इसमें क्या ग़लत है?
हमारी चेतना के स्तर को ऊपर उठाकर हम इसे बेहतर कर सकते हैं| अत: स्वतंत्रता दे| क्या आप अपने आप के लिए स्वतंत्रता चाहते हैं? हमें जरूरत है| हम शायदअपने आप को प्रतिबद्ध करते हैं है, लेकिन हमारी अपनी मर्जी से. “मैं यह करना चाहता हूँ.” लेकिनहम अपनी पसंद की स्वतंत्रता चाहते हैं| है ना? तो यह दूसरों को दो| जो तुम खुद के लिए चाहते हैं, यह दूसरों को उपलब्ध कराओ|

आसक्ति से कष्ट होगा , प्यार से पीड़ा होगी| यही दिव्य गणित है| एक समीकरण|

अतएव , कृपया, जो तुम्हारे पास है,उसे बढाओ, क्योंकि यह एक खजाना(कोष) है.



Comments are closed.